मोशन सेंसर क्या है तथा ये कैसे काम करता है व इसका क्या महत्व है?

मोशन सेंसर क्या  है तथा ये कैसे काम करता है व इसका क्या महत्व है?

मोशन सेंसर क्या है तथा ये कैसे काम करता है व इसका क्या महत्व है?

September 29, 2018

 

मोशन सेंसर क्या है?

 

मोशन सेंसर जैसा की नाम से ही प्रतीत होता है कि ये मोशन अर्थात गति को डिटेक्ट करता है। मोशन सेंसर पीआईआर टेक्नॉलॉजी का उपयोग करके किसी भी प्रकार के अनाधिकृत(अनऔथराइज्ड) मोशन या गति को डिटेक्ट करता है। ये ऑटो स्लीक टेक्नोलॉजो, टेम्पर फंक्शन, पेट इम्यूनिटी जैसे स्मार्ट फंक्शन के साथ आते हैं, जो इसे और स्मार्ट बना देते हैं। ये वायरलेस व वायर्ड दोनो प्रकार के हो सकते हैं। इनके डिटेक्शन की रेंज लगभग 12 मीटर होती है।
मोशन सेंसर घर के अन्दर लगवाए जाते हैं जिससे ये किसी भी प्रकार के मोशन को डिटेक्ट कर लेता है और उसकी जानकारी आप तक पहुंच जाती है। जैसा कि पहले ही बता चुके हैं कि ये ऑटो स्लीप टेक्नोलॉजी के साथ आते है, जो हर 3 मिनट में स्लीप मोड़ मे चला जाता है इससे फॉल्स् अलार्म(False Alarm) के आने के अवसर कम हो जाते हैं, साथ ही बैटरी बैक-अप भी बढ जाता है। ये टेम्पर फंक्शन के साथ आते हैं जिससे अगर कोई इन्हे हानि पहुंचाने की कोशिश करता है तो तो इसमे लगा हुआ टैम्पर स्विच अलार्म बजा देगा और सीएमएस को इनफॉर्म/सूचित कर देगा। ये पेट इम्यून होते हैं अर्थात अगर घर मे कोई पालतु पशु है जैसे कि कुत्ता या बिल्ली और ये मोशन सेंसर के सामने आ जाते हैं तो मोशन सेंसर उन्हें इग्नोर कर देता है जिससे फॉल्स अलार्म नहीं बजता। इसके सा‍थ एक बैटरी आती है जो 2 साल तक चलती है। अत: बैटरी बैक-अप की भी समस्याी नहीं होती। इसको इंस्टॉल करना बहुत ही आसान है, इसके लिए ड्रिल करने की भी आवश्यकता नहीं होती है।
सामान्यत:एक घर या फ्लैट में एक मोशन सेंसर की आवश्यकता होती है। लेकिन यूजर अपनी आवश्यकता के अनुसार इसे घटा बढा सकते हैं। यह सेंसर इन्फ्रारेड रेडिएशन पर काम करता है। इसमे कोई भी कैमरा या वी‍डियो रिकार्डिंग नही होती है। ये किसी भी व्यक्ति के मोशन व टेम्परेचर को डिटेक्ट कर सकता है।
मोशन सेंसर मल्टीसेंसर की तरह काम करता है। ये टेम्पररेचर सेंसर का भी काम करता है। इसके साथ लाइट सेंसर व त्वरणमापी सेंसर की तरह भी काम करता है।

 

मोशन सेंसर कैसे काम करता है?

 

डीएफएस का मोशन सेंसर 2 प्रकार से काम करता है-

1. पहला टेम्पोरेचर या तापमान को डिटेक्टट करके।
2. दूसरा मोशन या गति को डिटेक्टा करके।

1. टेम्परेचर को डिटेक्ट करके- मोशन सेंसर को घर, ऑफिस व शॉप पर इंस्टाल करने के बाद तथा सिक्यूरिटी ग्रिड से इंटीग्रेट या इन्रोल करने के बाद जब आप ग्रिड को एक्टिवेट करते हैं उसके 3 मिनट बाद अब कोई भी व्यक्ति अगर उस परिक्षेत्र में जहां सेंसर लगा है, घुसने की कोशिश करेगा तो मोशन सेंसर उस रूम के टेम्परेचर को उस व्यक्ति के टेम्प्रेचर से मैच करेगा और जैसे ही उसे उन दोनो टेम्परेचर में अन्तर महसूस करेगा तो वो एक सिग्नल कन्ट्रोल पैनल को भेज देगा और कन्ट्रोल पैनल अलार्म बजाने लगेगा साथ इसकी जानकारी मकान मालिक व सेन्ट्रल मोनिटरिंग स्टेशन को भेज देगा।
2. दूसरा मोशन या गति को डिटेक्ट करके- मोशन सेंसर को घर, ऑफिस व शॉप पर इंस्टाल करने के बाद तथा सिक्यूरिटी ग्रिड से इंटीग्रेट या इन्रो्ल करने के बाद जब आप ग्रिड को एक्टिवेट करते हैं उसके 3 मिनट बाद अब कोई भी व्यक्ति अगर उस परिक्षेत्र में जहां सेंसर लगा है, घुसने की कोशिश करेगा तो मोशन सेंसर उस व्यक्ति की गति को डिटेक्ट करेगा और एक सिग्नल कन्ट्रोंल पैनल को भेज देगा और कन्ट्रोंल पैनल अलार्म बजाने लगेगा साथ इसकी जानकारी मकान मालिक व सेन्ट्रल मोनिटरिंग स्टेशन को भेज देगा।
सेन्ट्रल मो‍निटरिंग स्टेशन पर मौजूद प्रशिक्षित ऑपरेटर तुरंत ही उस अलार्म पर एक्शन लेते हैं और कस्टमर के साथ कम्यूनिकेट करते हैं।

 

टॉप 5 कारण, क्यूं मोशन सेंसर इतना महत्वौपूर्ण है

 

1. स्मॉल और खूबसूरत- जब मोशन सेंसर को डिजाइन किया जाता है तो हर एक चीज को ध्यान में रखकर किया जाता है। ये ऐसे डिजाइन किये जाते हैं, जिससे ये सुरक्षा के साथ-साथ देखने में भी सुन्दर लगे, जिससे घर व ऑफिस में लगवाने के बाद वहां की सुन्दरता पर कोई प्रभाव नहीं पड़े। मोशन सेंसर साइज में छोटे होतें है जिससे ज्यादा स्पेंस नहीं लगता और इंस्टॉंल करने में कोई परेशानी भी नहीं होती है।
2. मल्टी‍-फंक्शन- मोशन सेंसर मल्टी फंक्शन के साथ आता है। जैसे कि 3 मिनट की ऑटो-स्लीप टेक्नोलॉजी जो फॉल्स्‍ अलार्म को कम करने व बैटरी बैक-अप को बढाने में मदद करता है। पेट इम्यूनटी फंक्शन भी फॉल्स अलार्म को कम करने में मदद कर सकता है।
3. आपके परिवार की सुरक्षा- आमतौर पर हमें दिन-रात जो भी चिंता होती है वह हमारे प्रियजनों की सुरक्षा और हमारे मूल्यवान चीजों की सुरक्षा के लिए डर है। डीएफएस के मोशन डिटेक्टर ही है जो आपके घर मे एक गॉर्ड की तरह 24 घंटों नजर रखता है ताकि आप सुरक्षित रहें।

4. सीएमएस(CMS) मोनिटरिंग- जब मोशन डिटेक्टर खतरे को डिटेक्ट कर लेता है तो उसकी जानकारी मिली सेकंड मे कन्ट्रोल पैनल को दे देता है। कन्ट्रोल पैनल भी इसकी जानकारी CMS तक पहुंचा देता है, इसके साथ ही बैकएण्ड पर काम कर रहा SMS Gateway 3 सेकंड के अन्दर कस्टमर को इसकी जानकारी भेज देता है तथा इसके साथ ही CMS ऑपरेटर घर के मालिक को सीधे संपके करके इसकी जानकारी दे देते हैं, इतना ही नहीं अगर कस्टमर को लगता है या वो कहता है कि उसे लोकल ऑथराइजेशन सुविधा की जरूरत है तो हम कस्मटर की ओर से उन्हे भी कॉल करके बुलवाते हैं। और जब तक ये प्राब्लइम हल नहीं हो जाती तब तक हमारे ऑपरेटर कस्टरमर से फॉलोअप करते हैं। यही है डीएफएस की सर्विसेस।

5. निश्चित जगहों को मोनिटर करना- मोशन सेंसर को ऐसी महत्वपूर्ण जगहों पर लगवाइये जहां से किसी के घुसने के अवसर ज्यादा हों। अपने आवश्यकता के अनुसार आप किसी भी रूम में लगवा सकते हैं ताकि आपका घर सुरक्षित हो सके।

 

और अधिक जानकारी के लिए कि ये कैसे काम करता है तो आप यहां(Click Here) संपर्क कर सकते हैं
या आप खरीदना चाहते हैं तो विजित करें – डिजिटल फायर एण्ड सिक्यूरिटी सर्विसेज

Share your Blog...Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on LinkedIn
Linkedin